image
image image image image image image

Office bearers
+-

Office bearers

  • Com. Animesh Mitra

    [ President ]
  • Com. P. Abhimanyu

    [ General Secretary ]
  • Com. John Verghese

    [ Deputy General Secretary ]
  • Com. Irfan Pasha

    [ Treasurer ]

Dada Ghosh Bhawan, 2151/1, New Patel Nagar, Opp. Shadipur Bus Depot, New Delhi- 110008

011-25705385(Office), 011-25894862(Fax)

envelopebsnleuchq@gmail.com
image
image image image image image image

Office bearers
+-

Office bearers

  • Com. Animesh Mitra

    [ President ]
  • Com. P. Abhimanyu

    [ General Secretary ]
  • Com. John Verghese

    [ Deputy General Secretary ]
  • Com. Irfan Pasha

    [ Treasurer ]

Dada Ghosh Bhawan, 2151/1, New Patel Nagar, Opp. Shadipur Bus Depot, New Delhi- 110008

011-25705385(Office), 011-25894862(Fax)

envelopebsnleuchq@gmail.com

BSNL Employees Union (CHQ), New Delhi

23 - Feb - 2023
Migration from BSNL to Reliance Jio - CGM and GM(EB), Karnataka Circle, meet Hon’ble Home Minister of Karnataka, after BSNLEU‘s letter.

Day before yesterday, i.e., on 21.02.2023, BSNLEU wrote letter to the Hon’ble Minister of Communications, regarding the decision of the Karnataka State Government to migrate it’s mobile and other telecom connections from BSNL to Reliance Jio. Based on the decision taken by the Karnataka State government, the Additional Director General of Police of Karnataka state had also taken decision to migrate all the telephone connections of Karnataka Police department to Reliance Jio. It was at this juncture, BSNLEU, wrote letter to the Hon’ble Minister of Communications, with copy of the letter marked to the Secretary, Telecom and CMD BSNL. After BSNLEU wrote letter to the Hon’ble minister of Communications, the CGM and the GM(EB) of Karnataka circle have met the Hon’ble Home Minister of Karnataka state. It is reported that, the Hon’ble Home Minister of Karnataka has assured to act positively on this issue. 

23 - Feb - 2023
CMD BSNL calls meeting to brief the unions and associations on the merger of MTNL with BSNL..

On 21.02.2023, the Joint Forum of Non-Executive Unions and Associations of BSNL has written a detailed letter to the Secretary, Telecom and the CMD BSNL. In that letter, the Joint Forum has seriously complained that the employees, who are an important stakeholders of the Company, are being kept in total darkness with regards to the merger of MTNL with BSNL. The Joint Forum has also raised 3 important demands, which should be fulfilled before the proposed merger. Under these circumstances, the Corporate Office has issued letter yesterday informing that, the CMD BSNL would meet the unions and associations of BSNL on 28.02.2023 to discuss about developmental issues, including the merger of MTNL with BSNL. BSNLEU has been requested to attend the meeting with 2 or 3 representatives.

View File

23 - Feb - 2023
Hindi translation of "CMD BSNL calls meeting to brief the unions and associations on the merger of MTNL with BSNL."

सीएमडी, बीएसएनएल ने बीएसएनएल के साथ एमटीएनएल के विलय पर यूनियनों और एसोसिएशनों को जानकारी देने के लिए बैठक बुलाई ।

21.02.2023 को बीएसएनएल के नोन एक्ज़ीक्यूटिव यूनियनों और यूनियनों के संयुक्त मंच ने सचिव, दूरसंचार और सीएमडी, बीएसएनएल को एक विस्तृत पत्र लिखा है।  उस पत्र में, संयुक्त मंच ने गंभीरता से शिकायत की है कि कर्मचारियों, जो कंपनी के एक महत्वपूर्ण हितधारक हैं, को बीएसएनएल के साथ एमटीएनएल के विलय के संबंध में पूरी तरह से अंधेरे में रखा जा रहा है।  संयुक्त मंच ने 3 अहम मांगें भी उठाई हैं, जिन्हें प्रस्तावित विलय से पहले पूरा किया जाए।  इन परिस्थितियों में, कॉर्पोरेट कार्यालय ने कल पत्र जारी कर सूचित किया है कि सीएमडी, बीएसएनएल दिनांक 28.02.2023 को बीएसएनएल के यूनियनों और एसोसिएशनों से मिलेंगे, जिसमें बीएसएनएल के साथ एमटीएनएल के विलय सहित विकास संबंधी मुद्दों पर चर्चा की जाएगी। BSNLEU से 2 या 3 प्रतिनिधियों के साथ बैठक में भाग लेने का अनुरोध किया गया है।

22 - Feb - 2023
Management makes mockery of a genuine demand - BSNLEU gives a befitting reply.

BSNLEU has written letter to the CMD BSNL, raising the demand that, the Directly Recruited employees should also get 1st and 2nd promotions under NEPP, on completion of 4 years and 7 years respectively, at par with the employees absorbed from the DoT. Instead of settling this demand, the Corporate Office has written letter to BSNLEU, proposing to remove clause 3.2 of the NEPP. This is the clause as per which the employees absorbed from the DoT get 1st and 2nd upgradations on completion of 4 years and 7 years respectively. The argument of the Management is that, all the employees absorbed form the DoT have already got their 1st and 2nd upgradations under NEPP and that there is no need to continue with clause 3.2 of the NEPP. This proposal of the Management is nothing but making mockery of a genuine demand. This is because, the Executives are getting their 1st and 2nd promotions under EPP, on completion of 4/6 years and 5 years respectively. If the Non-Executives demand promotions at par with the Executives, whether the Management will remove the clauses of the NEPP, which give 1st and 2nd upgradations to the Executives on completion of 4/6 years and 5 years respectively? BSNLEU has strongly opposed the proposal of the Management. BSNLEU has once again reiterated that, the Directly Recruited employees should also get 1st and 2ndupgradations on completion of 4 years and 7 years respectively.

View File

22 - Feb - 2023
Hindi translation of "Management makes mockery of a genuine demand - BSNLEU gives a befitting reply."

प्रबंधन ने बनाया जायज मांग का मजाक - BSNLEU ने दिया करारा जवाब ।

BSNLEU ने बीएसएनएल के सीएमडी को पत्र लिखकर मांग की है कि सीधे भर्ती किए गए कर्मचारियों को भी एनईपीपी के तहत पहली और दूसरी पदोन्नति क्रमश: 4 साल और 7 साल के पूरा होने पर, डीओटी से अवशोषित कर्मचारियों के बराबर मिलनी चाहिए। इस मांग को पूरा करने के बजाय, कॉर्पोरेट कार्यालय ने  BSNLEU को पत्र लिखकर एनईपीपी के खंड 3.2 को हटाने का प्रस्ताव दिया है।  यह वह खंड है जिसके अनुसार दूरसंचार विभाग से अवशोषित कर्मचारियों को क्रमश: 4 वर्ष और 7 वर्ष पूरा होने पर पहला और दूसरा उन्नयन मिलता है।  प्रबंधन का तर्क यह है कि, डीओटी से अवशोषित सभी कर्मचारियों को पहले ही एनईपीपी के तहत अपना पहला और दूसरा अपग्रेड मिल चुका है और एनईपीपी के खंड 3.2 को जारी रखने की कोई आवश्यकता नहीं है।  प्रबंधन का यह प्रस्ताव जायज मांग का मजाक बनाने के अलावा और कुछ नहीं है। एक्ज़िक्यूटिव्स को क्रमश: 4/6 वर्ष और 5 वर्ष पूरा करने पर ईपीपी के तहत उनकी पहली और दूसरी पदोन्नति मिल रही है। यदि नोन एक्ज़िक्यूटिव्स को एक्ज़िक्यूटिव्स के समकक्ष पदोन्नति की मांग करते हैं, तो क्या प्रबंधन ईपीपी के उन खंडों को हटा देगा, जो क्रमश: 4/6 वर्ष और 5 वर्ष पूरा होने पर एक्ज़िक्यूटिव्स को पहला और दूसरा उन्नयन देते हैं ?  BSNLEU ने प्रबंधन के प्रस्ताव का कड़ा विरोध किया है। BSNLEU ने एक बार फिर दोहराया है कि सीधी भर्ती वाले कर्मचारियों को भी क्रमश: 4 साल और 7 साल पूरा होने पर पहला और दूसरा अपग्रेडेशन मिलना चाहिए।

22 - Feb - 2023
Corporate Office letter on strict implementation of provisions of Rule 9 of BSNL Transfer Policy – Relieving of officials who have completed deputation period.

View File

21 - Feb - 2023
Karnataka state government‘s decision to migrate it’s connections from BSNL network to Reliance Jio’s network - BSNLEU writes to the Hon’ble Minister of Communications, seeking his intervention to stop this the same.

The CHQ of BSNLEU is shocked to know that, the State Government of Karnataka has taken decision to migrate it’s mobile, landline, FTTH, leased circuits, etc., from BSNL’s networks to Reliance Jio’s networks. This step of the State Government of Karnataka is against the decision of the Central Government, which has directed all the State Governments to utilise the services of BSNL and MTNL. Hence, BSNLEU has written a letter today to Shri Ashwini Vaishnaw, Hon’ble Minister of Communications, requesting to stop the migration of Karnataka State Government’s connections from BSNL to Reliance Jio.

View File

21 - Feb - 2023
Hindi translation of "Karnataka state government‘s decision to migrate it’s connections from BSNL network to Reliance Jio’s network - BSNLEU writes to the Hon’ble Minister of Communications, seeking his intervention to stop this the same."

कर्नाटक राज्य सरकार का बीएसएनएल नेटवर्क से रिलायंस जियो के नेटवर्क में अपने कनेक्शन का स्थानांतरण करने का निर्णय - BSNLEU ने माननीय संचार मंत्री को पत्र लिखा और इसे रोकने के लिए उनके हस्तक्षेप की मांग की।

BSNLEU का सीएचक्यू यह जानकर हैरान है कि कर्नाटक राज्य सरकार ने अपने मोबाइल, लैंडलाइन, एफटीटीएच, लीज्ड सर्किट आदि को बीएसएनएल के नेटवर्क से रिलायंस जियो के नेटवर्क में स्थानांतरित करने का निर्णय लिया है।  कर्नाटक राज्य सरकार का यह कदम केंद्र सरकार के फैसले के खिलाफ है, जिसने सभी राज्य सरकारों को बीएसएनएल और एमटीएनएल की सेवाओं का उपयोग करने का निर्देश दिया है।  इसलिए, BSNLEU ने आज श्री अश्विनी वैष्णव, माननीय संचार मंत्री को एक पत्र लिखा है, जिसमें बीएसएनएल से रिलायंस जियो में कर्नाटक राज्य सरकार के कनेक्शनों के स्थानांतरण को रोकने का अनुरोध किया गया है।

21 - Feb - 2023
Joint Forum writes to the Secretary, Telecom and the CMD BSNL, regarding the steps to be taken by the government, before merger of MTNL with BSNL..

The Joint Forum of the Non-Executive Unions and Associations of BSNL, have written letter to the Secretary Telecom and the CMD BSNL, regarding the proposed merger of MTNL with BSNL. MTNL is listed in the share market. Hence, the Joint Forum has demanded that, MTNL should be delisted first before merging it with BSNL. The Joint Forum has also demanded that, the financial liability of MTNL, which comes to around Rs.30,000 crore, should be taken over by the government and that BSNL should not be compelled to take over that liability. The Joint Forum has pointed out that, the networks of MTNL in Delhi and Mumbai, are in a bad shape. Hence, the money needs to be spent by BSNL, for the restoration of the networks of MTNL, should be given by the government.

View File

21 - Feb - 2023
Hindi translation of "Joint Forum writes to the Secretary, Telecom and the CMD BSNL, regarding the steps to be taken by the government, before merger of MTNL with BSNL."

संयुक्त मंच बीएसएनएल के साथ एमटीएनएल के विलय से पहले सरकार द्वारा उठाए जाने वाले कदमों के बारे में सचिव, दूरसंचार और सीएमडी, बीएसएनएल को लिखता है।

बीएसएनएल के नोन एक्ज़ीक्यूटिव यूनियनों और एसोसिएशनों के संयुक्त मंच ने बीएसएनएल के साथ एमटीएनएल के प्रस्तावित विलय के संबंध में सचिव, दूरसंचार और सीएमडी, बीएसएनएल को पत्र लिखा है।  एमटीएनएल शेयर बाजार में सूचीबद्ध है।  इसलिए, संयुक्त मंच ने मांग की है कि बीएसएनएल के साथ विलय से पहले एमटीएनएल को पहले डीलिस्ट किया जाना चाहिए। संयुक्त मंच ने यह भी मांग की है कि एमटीएनएल की वित्तीय देनदारी, जो लगभग 30,000 करोड़ रुपये है, सरकार द्वारा ली जानी चाहिए और बीएसएनएल को उस देनदारी को लेने के लिए मजबूर नहीं किया जाना चाहिए। संयुक्त मंच ने बताया है कि दिल्ली और मुंबई में एमटीएनएल के नेटवर्क खराब स्थिति में हैं।  इसलिए, एमटीएनएल के नेटवर्क की बहाली के लिए बीएसएनएल द्वारा पैसा खर्च करने की जरूरत है जो सरकार द्वारा दिया जाना चाहिए।

20 - Feb - 2023
Organise demonstrations and gate meetings on 24.02.2023.

The Coordination Committee of BSNLEU, AIBDPA and BSNLCCWF has decided to organise demonstrations and gate meetings on 24.02.2023. This demonstration and gate meeting are for popularising the 14 point charter of demands of the Mazdoor Kisan Rally, to be organised at New Delhi on 05-04-2023. All the circle and district secretaries are requested to mobilise the maximum number of employees, pensioners and contract workers in this demonstration and gate meeting. Circle and district secretaries of BSNLEU are requested to coordinate with AIBDPA and BSNLCCWF and organise the programme successfully. Necessary actions may be initiated from tomorrow itself.

20 - Feb - 2023
Hindi translation of "Organise demonstrations and gate meetings on 24.02.2023."

24.02.2023 को प्रदर्शन और गेट मीटिंग आयोजित करें।

BSNLEU, एआईबीडीपीए और बीएसएनएलसीसीडब्ल्यूएफ की समन्वय समिति ने 24.02.2023 को प्रदर्शन और गेट मीटिंग आयोजित करने का निर्णय लिया है।  यह प्रदर्शन और गेट मीटिंग दिनांक 05-04-2023 को नई दिल्ली में आयोजित होने वाली मजदूर किसान रैली के 14 सूत्री मांगों के चार्टर को लोकप्रिय बनाने के लिए है।  सभी सर्किल व जिला सचिवों से अनुरोध है कि इस प्रदर्शन व गेट मीटिंग में अधिक से अधिक संख्या में कर्मचारी, पेंशनर व संविदा कर्मियों को जुटाएं।  BSNLEU के सर्किल और जिला सचिवों से अनुरोध है कि एआईबीडीपीए और बीएसएनएलसीसीडब्ल्यूएफ के साथ समन्वय कर कार्यक्रम को सफलतापूर्वक आयोजित करें।  कल से ही आवश्यक कार्रवाई शुरू करें । 

20 - Feb - 2023
Why BSNL employees should participate in the Mazdoor Kisan Rally to be held at New Delhi on 05-04-2023..

Government has rejected Wage Revision to BSNL employees, saying that BSNL is running into loss. But, why BSNL is running into loss? It is only because of government’s policies.  The Modi government is creating hurdles in BSNL’s 4G launching. BSNL could not start it’s 4G only because of the government’s anti-BSNL policies. But, all the private companies are launching their 5G service. Government’s policy is to convert BSNL into a sick company and thereafter hand it over to some corporate, like Adani or Ambani. We should not forget how Air India was sold to TATA at cheap rate. The government is taking serious steps to privatise all the Public Sector companies including LIC, Banks, Oil companies, etc. At the same time, India’s big corporates are earning super profits, because of government’s pro-corporate policies. For example, in the list of world’s richest persons, Adani was in 140th place in 2014. But, during the 9 year period of Modi government, Adani has become world's 2nd richest man. At the same time, the workers, kisans, agricultural workers, unorganised workers, etc., are being pushed into poverty. To protect the Indian Public Sector and to defeat government’s anti-worker, anti-people and pro-corporate policies, a massive rally of workers and kisans (Mazdoor Kisan rally) is being organised at New Delhi on 05.04.2023. Central Government, State Government, Bank, LIC and BSNL employees are also participating in this rally. BSNLEU calls upon the BSNL employees to massively participate in this rally. 

20 - Feb - 2023
Hindi translation of "Why BSNL employees should participate in the Mazdoor Kisan Rally to be held at New Delhi on 05-04-2023."

बीएसएनएल कर्मचारियों को 05-04-2023 को नई दिल्ली में होने वाली मजदूर किसान रैली में क्यों भाग लेना चाहिए ?

सरकार ने बीएसएनएल कर्मचारियों के वेज रिवीजन को यह कहते हुए खारिज कर दिया है कि बीएसएनएल घाटे में चल रही है।  लेकिन, बीएसएनएल घाटे में क्यों चल रहा है ?  यह केवल सरकार की नीतियों के कारण है।  मोदी सरकार बीएसएनएल की 4G सेवा के आरंभ  में अड़ंगा लगा रही है।  केवल सरकार की बीएसएनएल विरोधी नीतियों के कारण बीएसएनएल अपना 4G सेवा शुरू नहीं कर सका।  लेकिन, तमाम प्राइवेट कंपनियां अपनी 5G सेवा का आरंभ कर रही हैं।  सरकार की नीति बीएसएनएल को एक बीमार कंपनी में बदलना और उसके बाद इसे अडानी या अंबानी जैसे किसी कॉर्पोरेट को सौंप देना है।  हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि कैसे एयर इंडिया को सस्ते दाम पर टाटा के हाथों बेच दिया गया।  सरकार एलआईसी, बैंक, तेल कंपनियों आदि सहित सभी सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियों के निजीकरण के लिए गंभीर कदम उठा रही है। वहीं, भारत के बड़े कॉर्पोरेट सरकार की कॉर्पोरेट समर्थक नीतियों के कारण सुपर प्रॉफिट कमा रहे हैं।  उदाहरण के लिए, 2014 में अडानी दुनिया के सबसे अमीर व्यक्तियों की सूची में 140वें स्थान पर था। लेकिन मोदी सरकार के 9 साल के कार्यकाल में अडानी दुनिया के दूसरे सबसे अमीर व्यक्ति बन गए हैं।  साथ ही मजदूरों, किसानों, खेतिहर मजदूरों, असंगठित मजदूरों आदि को गरीबी में धकेला जा रहा है।  भारतीय सार्वजनिक क्षेत्र की रक्षा के लिए और सरकार की मजदूर विरोधी, जनविरोधी और कारपोरेट समर्थक नीतियों को हराने के लिए मजदूरों और किसानों की एक विशाल रैली (मजदूर किसान रैली) दिनांक 05.04.2023 को नई दिल्ली में आयोजित की जा रही है।  इस रैली में केंद्र सरकार, राज्य सरकार, बैंक, एलआईसी और बीएसएनएल के कर्मचारी भी हिस्सा ले रहे हैं । BSNLEU बीएसएनएल कर्मचारियों से इस रैली में व्यापक रूप से भाग लेने का आह्वान करता है।

20 - Feb - 2023
Hindi version of the Circular no.1 of the Coordination Committee (CoC) of BSNLEU, AIBDPA and BSNLCCWF dated 18.02.2023, regarding Mazdoor Kisan Rally.

View File

18 - Feb - 2023
Decisions of the CoC meeting held today the 18.02.2023, on the issue of the Mazdoor Kisan Rally..

A meeting of the Coordination Committee (CoC) of BSNLEU, AIBDPA and BSNLCCWF is held online today the 18.02.2023. The meeting decided to organise the following campaign programme, for popularising the demands of the Mazdoor Kisan Rally. 

 

  1. Demonstrations and Gate meetings are to be organised on 24.02.2023.
  2. District level conventions are to be organised on 10.03.2023.
  3. Meet the employees programme is to be organised from 13.03.2023 to 18.03.2023.
  4. Street Corner meetings are to be organised from 27.03.2023 to 31.03.2023.

 

Date of the Demonstration and Gate meeting is changed. Further, instead of District General Body Meetings, District Level Conventions will be organised by the CoC. All comrades are requested to make note of the changes in the date and the programme. All out efforts may be taken to successfully implement the decisions of the CoC.

18 - Feb - 2023
Hindi translation of "Decisions of the CoC meeting held today the 18.02.2023, on the issue of the Mazdoor Kisan Rally"

मजदूर किसान रैली के संबंध में आज दिनांक 18.02.2023 को आयोजित समन्वय समिति बैठक के निर्णय।

BSNLEU, एआईबीडीपीए और बीएसएनएलसीसीडब्ल्यूएफ की समन्वय समिति (सीओसी) की बैठक आज 18.02.2023 को ऑनलाइन आयोजित की गई।  बैठक में मजदूर किसान रैली की मांगों को लोकप्रिय बनाने के लिए निम्नलिखित अभियान कार्यक्रम आयोजित करने का निर्णय लिया गया।

 

A.  24.02.2023 को प्रदर्शन और गेट मीटिंग आयोजित की जानी है।

B.  जिला स्तरीय सम्मेलनों का आयोजन दिनांक 10.03.2023 को किया जाना है।

C.  कर्मचारियों से मुलाकात कार्यक्रम दिनांक 13.03.2023 से 18.03.2023 तक आयोजित किया जाना है।

D.  नुक्कड़ सभाओं का आयोजन दिनांक 27.03.2023 से 31.03.2023 तक किया जाना है।

 

धरना व गेट मीटिंग की तिथि बदली गई है।  इसके अलावा, डिस्ट्रिक्ट जनरल बॉडी की बैठकों के बजाय, समन्वय समिति द्वारा जिला स्तरीय सम्मेलनों का आयोजन किया जाएगा।  सभी साथियों से अनुरोध है कि तारीख और कार्यक्रम में हुए बदलावों को नोट कर लें।  समन्वय समिति के फैसलों को सफलतापूर्वक लागू करने के लिए सभी प्रयास किए जाने चाहिये ।

18 - Feb - 2023
Circular of the Coordination Committee (CoC) of BSNLEU, AIBDPA and BSNLCCWF dated 18.02.2023, regarding Mazdoor Kisan Rally.

View File

18 - Feb - 2023
Retired Supreme Court judge will investigate the frauds of Adani – court rejects the names suggested by the Central Government.

The whole nation is witnessing the share market frauds committed by Adani. The common people, who have invested their hard earned money in the share market, have lost lakhs of crores of rupees. The LIC has invested Rs.30,127 crore in Adani’s companies. The State Bank of India has given a loan of $2.6 billion (Rs.22,620 crore) to Adani. Nobody can tell what will happen to all these loans and investments. But till today, the Modi government has not even started an enquiry in to the frauds committed by Adani. A case was filed in the Supreme Court by some citizens demanding an investigation into the cheatings done by Adani. Under these circumstances, the government submitted 3 names (in a sealed cover) to the Supreme Court for investigating this matter. However, yesterday, the Supreme Court rejected the names submitted by the government and has stated that a retired Supreme Court judge would investigate the frauds of Adani.

18 - Feb - 2023
Hindi translation of "Retired Supreme Court judge will investigate the frauds of Adani – court rejects the names suggested by the Central Government."

अडानी के घोटालों की जांच सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जज करेंगे - केंद्र सरकार के सुझाए नामों को कोर्ट ने खारिज किया ।

अडानी द्वारा किए गए शेयर बाजार धोखाधड़ी को पूरा देश देख रहा है।  अपनी गाढ़ी कमाई को शेयर बाजार में लगाने वाले आम लोगों के लाखों-करोड़ों रुपए डूब गए हैं।  एलआईसी ने अडानी की कंपनियों में 30,127 करोड़ रुपये का निवेश किया है।  भारतीय स्टेट बैंक ने अडानी को 2.6 बिलियन डॉलर (22,620 करोड़ रुपये) का कर्ज दिया है।  कोई नहीं बता सकता कि इन सभी ऋणों और निवेशों का क्या होगा।  लेकिन मोदी सरकार ने आज तक अडानी द्वारा किए गए घोटालों की जांच भी शुरू नहीं की है । अडानी द्वारा की गई धोखाधड़ी की जांच की मांग को लेकर कुछ नागरिकों द्वारा सुप्रीम कोर्ट में मामला दायर किया गया था।  इन परिस्थितियों में सरकार ने इस मामले की जांच के लिए तीन नाम (सीलबंद लिफाफे में) सुप्रीम कोर्ट को सौंपे।  हालांकि, कल सुप्रीम कोर्ट ने सरकार द्वारा सौंपे गए नामों को खारिज कर दिया और कहा कि अडानी की धोखाधड़ी की जांच सुप्रीम कोर्ट के एक सेवानिवृत्त न्यायाधीश करेंगे।